Google+ Followers

FREECHARGE CLICK & RECHARGE

loading...

Wednesday, 8 February 2017

अपनी जिंदगी के.............

अपनी जिंदगी के अलग असूल हैं,
यार की खातिर तो कांटे भी कबूल हैं,
हंस कर चल दूं कांच के टुकड़ों पर भी,
अगर यार कहे, यह मेरे बिछाए हुए फूल हैं.