Google+ Followers

FREECHARGE CLICK & RECHARGE

loading...

Thursday, 30 June 2016

हमें क्या पता.............

हमें क्या पता था, 
ये मौसम यूँ रो पड़ेगा; 
हमने तो आसमां को बस 
अपनी दास्ताँ सुनाई है ।


दिल से तेरी..............

दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया, 
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया, 
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा, 
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया।



Wednesday, 29 June 2016

तेरी आँखों के..............


तेरी आँखों के जादू से 
तू ख़ुद नहीं है वाकिफ़... 

ये उसे भी जीना सिखा देती हैं 
जिसे मरने का शौक़ हो ।


आई है सुबह..............

आई है सुबह वो रोशनी लेके, 
जैसे नए जोश की नयी किरण चमके, 
विश्वास की लौ सदा जला के रखना, 
देगी अंधेरों में रास्ता आपको दीया बनके । 
। शुभ प्रभात ।


Tuesday, 28 June 2016

तेरी आँखों के ...............

तेरी आँखों के जादू से 
तू ख़ुद नहीं है वाकिफ़... 

ये उसे भी जीना सिखा देती हैं 
जिसे मरने का शौक़ हो ।


दिल के सागर में ................

दिल के सागर में लहरें उठाया ना करो, 
ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो, 
बहुत चोट लगती है मेरे दिल को, 
तुम ख्वाबो में आ कर यूँ तड़पाया ना करो...।


मेरे दिल की हर ..................

मेरे दिल की हर धड़कन तुम्हारे लिए है, 
मेरी हर दुआ तुम्हारी मुस्कराहट के लिए है । 

तुम्हारी हर अदा मेरे दिल को चुराने के लिए है, 
अब तो मेरी जिंदगी तुम्हारे इंतज़ार के लिए है ।।


Monday, 27 June 2016

मेरे दिल की हर..................

मेरे दिल की हर धड़कन तुम्हारे लिए है, 
मेरी हर दुआ तुम्हारी मुस्कराहट के लिए है । 

तुम्हारी हर अदा मेरे दिल को चुराने के लिए है, 
अब तो मेरी जिंदगी तुम्हारे इंतज़ार के लिए है ।


गर मेरी चाहतों................

गर मेरी चाहतों के मुताबिक 
ज़माने की हर बात होती, 

तो बस मैं होता..तुम होती.. 
और सारी रात बरसात होती ।


मोहब्बत की शम्मा..................

मोहब्बत की शम्मा जला कर तो देखो, 
जरा दिल की दुनियाँ सजा कर तो देखो, 
तुम्हे हो ना जाऐ मोहब्बत तो कहना, 
जरा हमसे नजरें मिलाकर तो देखो..


मिली जब भी..................


मिली जब भी नजर उनसे, 
धड़कता है हमारा दिल, 
पुकारे वो उधर हमको, 
इधर दम क्यों निकलता है।


Sunday, 26 June 2016

वादा किया है ....................


वादा किया है तो जरूर निभायेंगे, 
बन के खुशबू तेरा घर महकायेंगे, 
हम हैं तो जुदाई का ग़म कैसा, 
तेरी हर सुबह फूलों से सजायेंगे । 
शुभ प्रभात ।


Saturday, 25 June 2016

साँसों की माला...............

साँसों की माला में पिरो कर 
रखे हैं तेरी चाहतो के मोती, 
अब तो तमन्ना यही है कि, 
बिखरूं तो सिर्फ तेरे आगोश में।


Friday, 24 June 2016

वादा किया है ..............

वादा किया है तो जरूर निभायेंगे, 
बन के खुशबू तेरा घर महकायेंगे, 
हम हैं तो जुदाई का ग़म कैसा, 
तेरी हर सुबह फूलों से सजायेंगे । 
शुभ प्रभात ।


ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी................

ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी बस 
इतनी सी है अब मेरी, 
कि साथ तेरा हो और 
ज़िंदगी कभी खत्म न हो ।


मेरी आँखों में झाँकने से..............


मेरी आँखों में झाँकने से पहले 
जरा सोच लीजिये ऐ हुजूर... 

जो हमने पलके झुका ली तो 
कयामत होगी...। 

और हमने नजरें मिला ली तो 
मुहब्बत होगी...।


जज़्बात बहक जाते.........

जज़्बात बहक जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं, 
अरमान मचल जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं, 
मिल जाते हैं आँखों से आँखें, हाथों से हाथ, 
दिल से दिल, रूह से रूह जब तुमसे मिलते हैं।


मैं तमाम दिन का...............


मैं तमाम दिन का थका हुआ, 
तू तमाम शब का जगा हुआ.. 
ज़रा ठहर जा इसी मोड़ पर, 
तेरे साथ शाम गुज़ार लूँ ।


खुशबू की तरह ..............


खुशबू की तरह मेरी हर साँस में, 
प्यार अपना बसाने का वादा करो, 
रंग जितने तुम्हारी मोहब्बत के हैं, 
मेरे दिल में सजाने का वादा करो।


Thursday, 23 June 2016

आप पहलू में ...............

आप पहलू में जो बैठें तो संभल कर बैठें, 
दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की।


लाखों में इंतिख़ाब के.........................


लाखों में इंतिख़ाब के क़ाबिल बना दिया, 
जिस दिल को तुमने देख लिया दिल बना दिया, 
पहले कहाँ ये नाज़ थे, ये इश्वा-ओ-अदा, 
दिल को दुआएँ दो तुम्हें क़ातिल बना दिया।


तुम हसीन हो..........


तुम हसीन हो, गुलाब जैसी हो, 
बहुत नाज़ुक हो ख़्वाब जैसी हो, 
होठों से लगाकर पी जाऊं तुम्हे, 
सर से पाँव तक शराब जैसी हो।


Wednesday, 22 June 2016

तुम्हारी प्यार भरी...............

तुम्हारी प्यार भरी निगाहों को हमें कुछ ऐसा गुमान होता है 
देखो ना मुझे इस कदर मदहोश नज़रों से कि दिल बेईमान होता है।


Tuesday, 21 June 2016

संगमरमर के महल...........

संगमरमर के महल में तेरी तस्वीर सजाऊंगा, 
अपने इस दिल में तेरे ही ख्वाब जगाऊंगा, 
यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा, 
मैं तो प्यार का हूँ प्यासा तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा। 


कब तक वो मेरा ................

कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा, 
खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा, 
इश्क़ की आग में उसको इतना जला देंगे, 
कि इज़हार वो मुझसे सर-ए-बाजार करेगा।


मेरी हर नज़र.................

मेरी हर नज़र में बसी है तू, 

मेरी हर क़लम पे लिखी है तू, 
तुझे सोच लूँ तो ग़ज़ल मेरी, 
न लिख सकूँ तो वो ख्याल है तू ।


मेरी हर नज़र.................

मेरी हर नज़र में बसी है तू, 
मेरी हर क़लम पे लिखी है तू, 
तुझे सोच लूँ तो ग़ज़ल मेरी, 
न लिख सकूँ तो वो ख्याल है तू ।


जी चाहे की दुनिया................


जी चाहे की दुनिया की हर एक फ़िक्र भुला कर, 
दिल की बातें सुनाऊं तुझे मैं पास बिठाकर।


Monday, 20 June 2016

खिलखिलाती...............

खिलखिलाती सुबह, 
ताज़गी से भरा सवेरा है, 
फूलों और बहारों ने 
आपके लिए रंग बिखेरा है, 
सुबह कह रही है जाग जाओ, 
आपकी मुस्कुराहट के बिना सब अधूरा है। 
। शुभ प्रभात ।


Saturday, 18 June 2016

दो बातें उनसे की .................

दो बातें उनसे की तो दिल का दर्द खो गया, 
लोगों ने हमसे पूछा कि तुम्हें क्या हो गया, 
बेकरार आँखों से सिर्फ हँस के हम रह गए, 
ये भी ना कह सके कि हमें इश्क़ हो गया...।


हम वो फूल हैं ................

हम वो फूल हैं जो रोज़ रोज़ नहीं खिलते, 
यह वो होंठ हैं जो कभी नहीं सिलते, 
हम से बिछड़ोगे तो एहसास होगा तुम्हें, 
हम वो दोस्त हैं जो रोज़ रोज़ नहीं मिलते।


हम दोस्त बनाकर................


हम दोस्त बनाकर किसी को रुलाते नही, 
दिल में बसाकर किसी को भुलाते नही, 
हम तो दोस्त के लिए जान भी दे सकते हैं, 
पर लोग सोचते हैं की हम दोस्ती निभाते नहीं।


Friday, 17 June 2016

दोस्त समझते हो..........

दोस्त समझते हो तो दोस्ती निभाते रहना, 
हमें भी याद करना खुद भी याद आते रहना, 
हमारी तो हर ख़ुशी दोस्तों से ही है, 
हम खुश रहें या ना आप यूँ ही मुस्कुराते रहना।


दुनियादारी में हम................

दुनियादारी में हम थोड़े कच्चे हैं, 
पर दोस्ती के मामले में सच्चे हैं, 
हमारी सच्चाई बस इस बात पर कायम है, 
कि हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं।


होंठों पे उल्फत.............

होंठों पे उल्फत के फ़साने नहीं आते, 
जो बीत गए फिर वो ज़माने नहीं आते, 
दोस्त ही होते हैं दोस्तों के हमदर्द, 
कोई फ़रिश्ते यहाँ साथ निभाने नहीं आते।


Thursday, 16 June 2016

दोस्ती दर्द नहीं .............

दोस्ती दर्द नहीं खुशियों की सौगात है, 
किसी अपने का ज़िंदगी भर का साथ है, 
ये तो दिलों का वो खूबसूरत एहसास है, 
जिसके दम से रौशन ये सारी कायनात है।


Wednesday, 15 June 2016

होंठों पे उल्फत ..............


होंठों पे उल्फत के फ़साने नहीं आते, 
जो बीत गए फिर वो ज़माने नहीं आते, 
दोस्त ही होते हैं दोस्तों के हमदर्द, 
कोई फ़रिश्ते यहाँ साथ निभाने नहीं आते।


आई है सुबह वो..............

आई है सुबह वो रोशनी लेके, 
जैसे नए जोश की नयी किरण चमके, 
विश्वास की लौ सदा जला के रखना, 
देगी अंधेरों में रास्ता आपको दीया बनके । 
। शुभ प्रभात ।


दोस्ती दर्द नहीं...........

दोस्ती दर्द नहीं खुशियों की सौगात है, 
किसी अपने का ज़िंदगी भर का साथ है, 
ये तो दिलों का वो खूबसूरत एहसास है, 
जिसके दम से रौशन ये सारी कायनात है।


अपनी ज़िंदगी के..............


अपनी ज़िंदगी के कुछ अलग ही उसूल हैं, 
दोस्ती की खातिर हमें काँटे भी क़बूल हैं, 
हँस कर चल देंगे काँच के टुकड़ों पर भी, 
अगर दोस्त कहे यह दोस्ती में बिछाये फूल हैं।


Tuesday, 14 June 2016

रिश्तों से बड़ी...............

रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी, 
दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी, 
जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा, 
उसे ज़िंदगी से कोई और शिकायत क्या होगी।


मुस्कराहट का .............


मुस्कराहट का कोई मोल नहीं होता, 
कुछ रिश्तों का कोई तोल नहीं होता, 
लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर लेकिन, 
हर कोई आपकी तरह अनमोल नहीं होता ।


सादगी अगर................


सादगी अगर हो 
लफ्जो में यकीन मानो, 
प्यार बेपनाह, 
और दोस्त बेमिसाल 
मिल ही जाते हैं 


Monday, 13 June 2016

दोस्त आपकी ............

दोस्त आपकी दोस्ती का क्या खिताब दे, 
करते है इतना प्यार की क्या हिसाब दे। 
अगर आपसे भी अच्छा फूल होता तो ला देते, 
लेकिन जो खुद गुलदस्ता हो उसे क्या गुलाब दे।


Sunday, 12 June 2016

सच्ची है मेरी.................

सच्ची है मेरी दोस्ती आजमा के देखलो, 
करके यकीं मुझ पे मेरे पास आके देखलो, 
बदलता नहीं कभी सोना अपना रंग, 
जितनी बार दिल करे आग लगा कर देखलो।


Saturday, 11 June 2016

दिल की आवाज़..............


दिल की आवाज़ को इज़हार कहते है, 
झुकी निगाह को इकरार कहते है, 
सिर्फ पाने का नाम इश्क नहीं, 
कुछ खोने को भी प्यार कहते है !


Friday, 10 June 2016

खुदा की रहमत ................

खुदा की रहमत में अर्जियाँ नहीं चलतीं, 
दिलों के खेल में खुदगर्जियाँ नहीं चलतीं । 

चल ही पड़े हैं तो ये जान लीजिए हुजुर, 
इश्क़ की राह में मनमर्जियाँ नहीं चलतीं ।


मत किया कीजिये............


मत किया कीजिये दिन के 
उजालों की ख्वाहिशें, 

ये जो आशिक़ों की बस्तियाँ हैं 
यहाँ चाँद से दिन निकलता है.


खतम हो गई..............

खतम हो गई कहानी, 
बस कुछ अलफाज बाकी हैं, 
एक अधूरे इश्क की 
एक मुकम्मल सी याद बाकी है।


Thursday, 9 June 2016

अनजान सी राहों...............

अनजान सी राहों पर चलने का तजुर्बा नहीं था, 
इश्क़ की राह ने मुझे एक हुनरमंद राही बना दिया।